Home

School Information As required by CBSE

Important information about school as per CBSE Latest Guidelines  Click Here (1)

DSC_0260-1024x679

केन्द्रीय   विद्यालय रूड़की क्रमांक २ , रूड़की, केन्द्रीय विद्यालय संगठन के द्वारा चलाये जाने वाले   विद्यालयों में से एक है, जो बच्चों में शैक्षिक श्रेष्ठता, भारतीयता की भावना, राष्ट्रीय एकता और समग्र व्यक्तित्व के विकास के अवसर उपलब्ध   कराता हैं । यह विद्यालय माध्यमिक एवं उच्चत्तर माध्यमिक शिक्षा के क्षेत्र में   श्रेष्ठता के केंद्र के रूप में जाना जाता हैं ।

केन्द्रीय   विद्यालय रूड़की क्रमांक २ बी ई जी एंड सी, रूड़की के प्रमुख चार मिशन इस प्रकार है -

  • केन्द्रीय सरकार के स्थानांतरणीय   कर्मचारियों जिनमें रक्षा तथा अर्धसैनिक बलों के कर्मी भी शामिल हैं , के बच्चों को शिक्षा के सामान्य   कार्यक्रम के तहत शिक्षा प्रदान कर उनकी शैक्षिक   अवश्यकताओं को पूरा करना ।
  • विद्यालयी शिक्षा के क्षेत्र में   श्रेष्ठता और गति निर्धारित करना ।
  • केन्द्रीय माध्यमिक षिक्षा बोर्ड   (सी.बी.एस.सी.) राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एन.सी.ई.आर.टी.)   इत्यादि जैसे अन्य निकायों के सहयोग से शिक्षा के क्षेत्र में नए-नए प्रयोग तथा   नवाचार को सम्मिलित करना ।
  • बच्चों में राष्ट्रीय एकता और भारतीयता   की भावना का विकास करना ।
Kendriya   Vidyalaya, No. 2 Roorkee , Roorkee, is run by KVS an autonomous body formed under Ministry   of Human Resource Development, Govt. of India and is affiliated to Central   Board of Secondary Education, New Delhi and have a common syllabus and   curriculum of studies.
Kendriya   Vidyalaya, No. 2 Roorkee , Roorkee, have a four – fold mission, viz.,

  • To cater to the   educational needs of children of transferable Central Government employee   including – Defence and Para-military personnel by providing a common   programme of education;
  • To pursue   excellence and set the pace in the field of school education;
  • To initiate and   promote experimentation and innovations in education in collaboration with   other bodies like the Central Board of Secondary Education (CBSE) and the   National Council of Education Research and Training (NCERT) etc. and
  • To develop the   spririt of national integration and create an sense of ‘Indianness’ among   children.